No icon

संतोषजनक कार्य न मिलने के कारण भड़के खंड विकास अधिकारी, ग्राम प्रधान पर लटकी कार्रवाई की तलवार

आकाश सिंह अमृतपुर फर्रुखाबाद:-विकासखंड राजेपुर के गांव हुसैनपुर राजपुर में प्रधान द्वारा कराए गए कार्यों से खंड विकास अधिकारी श्री गगनदीप सिंह संतुष्ट नहीं हुए और उन्होंने निर्माण कार्य से संतुष्ट न होने के कारण कार्यवाही करने के आदेश दिए। आपको अवगत कराते चलें कि ग्रामपंचायत हुसैनपुर राजपुर में अपात्र लोगों को आवास देने व सही प्रकार से मानक के अनुरूप गली का निर्माण न कराने की शिकायत खंड विकास अधिकारी राजेपुर से की गई थी। इसी संबंध में जब आज खंड विकास अधिकारी राजेपुर द्वारा हुसैनपुर राजपुर गांव की स्थलीय जांच की गई तो निर्माण कार्य को देखकर वह अचंभित रह गए। लगभग 1 महीने पहले बनी इंटरलॉकिंग सड़क नीचे रखने लगी इसके किनारे पर बनी नाली में कहीं भी प्लास्टर नहीं दिखा। हुसैनपुर गांव में भी जब उन्होंने गली का निरीक्षण किया तो उन्होंने पाया कि गली के किनारे हुआ प्लास्टर तुरंत ही टूट गया इस पर उन्होंने सचिव मैं प्रधान से सवाल भी पूछे। वहीं राजपुर में रेडू के घर से रमाकांत के घर तक बनी इंटरलॉकिंग सड़क को भी देखकर खंड विकास अधिकारी का पारा चढ़ गया।जब उन्होंने गली के निर्माण कार्य के बारे में पूछा तो उन्हें बताया गया कि अभी कुछ दिन पूर्व ही इस बलि का निर्माण कराया गया है। इस पर खंड विकास अधिकारी ने कहा कि जब अभी इस गली को बने कुछ ही दिन हुए हैं तो किस प्रकार से इसका निर्माण कराया गया है कि यहां गली अभी धंसने लगी। गली के कार्य से वह किसी भी प्रकार से संतुष्ट नहीं हुए और उन्होंने कहा कि गली का निर्माण कार्य बिल्कुल भी संतोषजनक नहीं है। इस अवस्था में या तो ग्राम प्रधान को दोबारा से इस गली के निर्माण के लिए कहा जाएगा गली के भुगतान के पैसे रोक दिए जाएंगे। इसके बाद जब खंड विकास अधिकारी ने ग्राम पंचायत में प्रधानमंत्री आवास योजना के अंतर्गत लाभार्थियों को दिए गए आवासों की जांच की तो वहां भी उनको गड़बड़ ही दिखी। जब एक आवास लाभार्थी से उन्होंने पूछा कि तुम्हें आवास दिया गया है, तुम्हारा कहीं और मकान दुकान तो नहीं है?तब लाभार्थी पति द्वारा खंड विकास अधिकारी को बताया गया कि मुख्य मार्ग पर उनकी अपनी एक निजी दुकान है इसके अतिरिक्त उनके पास जरनैटर आदि भी है। वह अपना स्वयं का दो मंजिला बना मकान खंड विकास अधिकारी से छुपा गए और इसकी जानकारी उन्होंने मौके पर खंड विकास अधिकारी को प्रधान व सचिव की मदद से नहीं लगने दी। वहीं जब दूसरे आवास की जांच खंड विकास अधिकारी ने की तो निर्माणाधीन आवास को देखकर खंड विकास अधिकारी भड़क उठे।उन्होंने कहा कि इस आवास में तीन कमरे क्यों बनाए जा रहे हैं जबकि मानक के अनुरूप किसी भी दिए गए आवास में तीन कमरे बनाने का कोई नियम नहीं है ना ही इसका कोई विवरण मानक में दिया गया है। इस प्रकार यदि कोई व्यक्ति आवास बनाता है तब वह प्रधानमंत्री आवास योजना के मानक के अनुरूप नहीं होता है। वहीं उन्होंने इस बारे में सचिव व प्रधान को भी निर्देशित किया कि इस प्रकार से आवास का निर्माण नहीं कराया जाना चाहिए। आवास के बारे में खंड विकास अधिकारी से शिकायत की गई थी कि ग्रामपंचायत हुसैनपुर राजपुर में कुछ अपात्रों को आवास दिए गए हैं जबकि इस वित्तीय वर्ष में जिन तीन लोगों को आवास दिए गए हैं उनमें से सिर्फ आवास पाने का केवल एक ही व्यक्ति व्यक्ति पात्र है। दूसरे व्यक्ति का अपना दो मंजिला मकान है और फर्रुखाबाद बदायूं मुख्य मार्ग पर दो मंजिला दुकान भी है जिस दुकान का विवरण उसने खंड विकास अधिकारी को भी अपने बयान में दिया है। लाभार्थी व्यक्ति द्वारा स्वयं से यह खंड विकास अधिकारी को बताया गया कि उनके पास अपनी खुद की पक्की बनी दुकान है। वहीं अन्य तीसरे लाभार्थी लाभार्थी के आवास की भी जांच खंड विकास अधिकारी द्वारा की गई। फिलहाल हुसैनपुर राजपुर में हुए समस्त कार्यों से खंड विकास अधिकारी असंतुष्ट ही नजर आए। जब उनसे इस बारे में बातचीत की गई तो उन्होंने बताया कि हुसैनपुर राजपुर में बनी सभी इंटरलॉकिंग सड़कें मानक के अनुरूप नहीं है। इनमें बड़ी मात्रा में अनियमितता बरती गई है। इस कारण इनके भुगतान पर रोक लगाई जाएगी। जब ग्राम पंचायत में दिए गए प्रधानमंत्री आवास के बारे में उनसे बातचीत की गई तो उन्होंने बताया किदिए गए 3 आवासों में से एक आवास पात्र व्यक्ति को दिया गया है जबकि दो आवासों पर संदेह है अतः उक्त आवासों व अन्य कार्यों की भी उचित जांच कराकर कार्यवाही की जाएगी। उन्होंने कहा कि आवास प्राप्त लाभार्थियों के बारे में उचित जांच कर इस बारे में कार्यवाही करेंगे।

Comment As:

Comment (0)