No icon

बिहार में नहीं चला प्रशांत किशोर का फार्मूला

भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के साथ अपने संबंधों को लेकर यहां जनता दल यूनाइटेड (जेडीयू) के अंदर सोमवार को तीखे मतभेद उभरकर सामने आ गए। दरअसल, मुख्यमंत्री नीतीश कुमार नीत पार्टी के एक शीर्ष नेता ने आगामी विधानसभा चुनावों के लिए सीट बंटवारे के फॉर्म्युले पर प्रशांत किशोर के ‘असमय’ बयान को लेकर असहमति जताई। सत्तारूढ़ जेडीयू के राष्ट्रीय महासचिव (संगठन) एवं राज्यसभा में पार्टी के नेता आरसीपी सिंह ने पार्टी उपाध्यक्ष किशोर की मुखरता से उस वक्त असहमति जताई, जब गया में पत्रकारों ने उनसे टिप्पणी करने को कहा।
सभी कॉमेंट्स देखैंअपना कॉमेंट लिखेंआसीपी सिंह गया में बूथ स्तरीय प्रशिक्षण कार्यक्रम में गए थे। उन्होंने कहा, ‘कुछ लोगों की हर समय बयान देने की आदत होती है। मेरे पास उनके बारे में कहने के लिए ज्यादा कुछ नहीं है लेकिन यह असमय है। उन्हें समय से पहले ऐसे विषय उठाने से बचना चाहिए।’ सिंह को नीतीश के उन कुछ चुनिंदा लोगों में एक समझा जाता है, जो उनके आंख-कान हैं। सिंह का चुनावी रणनीतिकार किशोर से मधुर संबंध नहीं रहा है, जो पिछले साल सितंबर में जेडीयू के प्राथमिक सदस्य बने थे और बाद में कुछ हफ्तों के अंदर उन्हें पार्टी का राष्ट्रीय उपाध्यक्ष नियुक्त कर दिया गया था।
सिंह ने कहा, ‘2020 के चुनाव के बारे में दो चीजें स्पष्ट हैं, पहला यह कि चुनाव नीतीश बाबू के नेतृत्व में लड़ा जाएगा। दूसरा यह कि सीट बंटवारा कोई ऐसी चीज नहीं है, जिस पर मीडिया की मौजूदगी के बीच फैसला लिया जाए।’ सिंह ने कहा, ‘लोकसभा चुनाव के दौरान यह दिखा कि राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) के सभी घटक दलों के नेताओं ने एक स्वीकार्य फॉर्म्युले पर फैसला किया और बाद में उसे सार्वजनिक किया गया था।’
नीतीश के एक दशक से अधिक समय से करीबी सहयोगी एवं पूर्व आईएएस अधिकारी सिंह ने कहा, ‘...दोनों दलों (बीजेपी और जेडीयू) के शीर्ष नेतृत्व के बीच शानदार तालमेल है। विधानसभा चुनाव के लिए सीट बंटवारा समझौता कहीं अधिक तालमेल के साथ होगा।’ उल्लेखनीय है कि संसद में नागरिकता संशोधन अधिनियम के समर्थन में मतदान करने के जेडीयू के फैसले के खिलाफ किशोर के ट्वीट पर सिंह ने हाल ही में कहा था, ‘ये कौन लोग हैं? सांगठनिक ढांचे में उनका क्या योगदान है? उन्होंने कितने सदस्य बनाए हैं?’ सिंह ने यह बात उस वक्त कही थी जब उनसे विवादास्पद अधिनियम (सीएए) का किशोर द्वारा विरोध किए जाने के बारे में पूछा गया था। उन्होंने कहा, ‘अभी पार्टी में कोई राष्ट्रीय उपाध्यक्ष नहीं है। यहां तक कि मैं राष्ट्रीय महासचिव नहीं हूं। नीतीश कुमार एक और कार्यकाल के लिए राष्ट्रीय अध्यक्ष चुने गए हैं और उन्हें एक नई राष्ट्रीय कार्यकारिणी का गठन करना बाकी है।’

Comment As:

Comment (0)